International Market

Bonus Share(बोनस शेयर) :

Bonus Share(बोनस शेयर) :

आमतौर पर कम्पनियाँ अपना सारा मुनाफा शेयरहोल्डरों में लाभांश के रूप में बाँटने की जगह उसका एक बड़ा भाग अपने संचित कोष , या ‘ रिजर्व ‘ में डाल देती हैं । इस रिजर्व का उपयोग भविष्य में अप्रत्याशित कठिनाइयों से निबटने के लिए तथा कारोबार की बढ़त के लिए किया जाता है । सभी मुनाफा बनाने वाली कम्पनियों धीरे – धीरे बड़े रिजर्व संचित कर लेती है । साथ ही ऐसी कम्पनियों के व्यापार ,बिक्री और सम्पत्ति में भी वृद्धि होती है । ऐसे में कई कम्पनियों पाती हैं कि उनकी पूँजी इस बदते व्यापार का बोझ उठाने में असक्षम हैं.

इस प्रकार कम पूँजी के आधार पर व्यापार बढाना कम्पनी के लिए नुकसानदायक हो । सकता है । अतः पूँजी बढ़ाने के लिए कम्पनियाँ अपने रिजर्व के बूते पर । अपने शेयरहोल्डरों को ‘ बोनस शेयर जारी करती हैं । शेयरहोल्डर के पास कम्पनी के जितने शेयर हों , उसी अनुपात में ये बोनस शेयर मुफ्त दिये जाते हैं ।

यह मूलतः कम्पनी के खातों का हिसाब है , जिसमें ‘ रिजर्व ‘ से पैसा निकालकर ‘ इक्विटी कैपिटल ‘ के खाते में दर्ज कर दिया जाता है । इस प्रकार बोनस शेयर जारी कर कम्पनी अपने स्वामित्व में और लोगों को शामिल किये बिना नयी पूँजी का उपयोग कर सकती है ।

बोनस शेयरों के मुफ्त जारी होने पर बाजार में कम्पनी के शेयरों । का भाव गिरना स्वाभाविक है । पर शेयरहोल्डर को भाव के गिरने से जितना नुक्सान होता है , नए बोनस शेयर मुफ्त मिलने से उससे कहीं अधिक लाभ होता है । इसे एक उदाहरण की सहायता से समझते हैं ।

मान लीजिए आपके पास क , ख , ग , लिमिटेड कम्पनी के 100 शेयर हैं , और कम्पनी 11 के अनुपात में बोनस शेयर जारी करती है । इससे आपके पास बिना कुछ भी अतिरिक्त पैसा लगाए कम्पनी के 200 शेयर हो जाएँगे । अगर बोनस शेयर से पहले शेयर का भाव 50 रूपये चल रहा था , तो आपके पुराने 100 शेयरों का मूल्य 5 , 000 रूपये रहा होगा । अब अगर बोनस शेयर जारी करने पर शेयर का भाव 50 रूपये से 27 रूपये तक भी गिर गया , तो भी आपके 200 शेयरों का मूल्य 5 , 000 रूपये से अधिक ही होगा ।

दरअसल शेयरों के भाव आमतौर पर उस अनुपात में नहीं गिरते जिस में बोनस शेयर जारी किए जाते हैं । इस उदाहरण में बोनस शेयर जारी होने पर शेयरों का भाव संभवतः 27 रु प्रति शेयर तक गिर सकता है ।

शेयरहोल्डर को बोनस शेयरों से एक लाभ यह भी मिलता है कि अधिकतर कम्पनियाँ बोनस शेयर जारी करने के बाद भी पहले जितना ही लाभांश अदा करती हैं । जब तक कम्पनी को भविष्य में अच्छे लाभ का भरोसा न हो , वह बोनस शेयर जारी ही नहीं करेगी । अतः बोनस शेयर जारी होने से शेयर बाजार में कम्पनी को लेकर आशावादी परिवेश बन जाता है ।

source:(s s grawal)

share market,sensex,nifty 50,intraday,delivery,bse,nse,sebi

Also Read :  बोनस शेयर ( Bonus Share ) 

अगर आपके मन में अभी भी कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है और अपने विचार की प्रतिक्रया भी कमेंट में लिख सकते है,
पोस्ट पूरा पढने के लिए आपका धन्यवाद.

Leave a Reply

Click To Get Daily Stock