Rights Share (राईट्स शेयर) :

Rights Share (राईट्स शेयर) :

कम्पनियों को अक्सर अपने कारोबार को बढ़ाने या नया कारोबार करने के लिए समय – समय पर अतिरिक्त धनराशि की आवश्यकता पड़ती है । इसके लिए कुछ कम्पनियाँ अपने शेयरहोल्डरों को ‘ राईट ‘ ( यानि अधिकृत ) श्रेणी के नए इक्विटी शेयर बेचती हैं । इन्हें राईट शेयर इसलिए कहा जाता है क्योंकि इन्हें खरीदने का सबसे पहला ‘ राईट ‘ या अधिकार कम्पनी के पुराने शेयरहोल्डरों को दिया जाता है । जिस शेयरहोल्डर के पास जितने शेयर होते हैं , उसी के हिसाब से उसे राईट्स शेयर बेचे जाते हैं ।

नए राईट शेयरों का मूल्य ‘ एट पार ‘ , अथवा ‘ प्रीमियम ‘ पर रखा जाता है । अगर नए शेयर उसी दाम पर बेचे जा रहे हैं जिस पर कम्पनी ने पुराने शेयर बेचे थे , तो इन्हें ‘ एट पार ‘ कहा जाता है । नए शेयरों का दाम पहले से ज्यादा हो , तो उन्हें ‘ प्रीमियम ‘ कहते हैं । नए और पुराने शेयर के दाम का अंतर ही प्रीमियम होता है ।

राईट्स शेयर को निवेशक के लिए आकर्षक बनाने के लिए इनका दाम हमेशा कम्पनी के शेयर के चालू बाजार भाव से कम रखा जाता है । इन शेयरों को जारी करने से कम्पनी की पूँजी तो बढ़ती है , पर अगर निवेशक उसे मिलने वाले सारे राईट्स शेयर खरीद ले तो उसका कम्पनी में स्वामित्व का अनुपात कम नहीं होता ।

source:(s s grawal)

share market,sensex,nifty 50,intraday,delivery,bse,nse,sebi

Also Read : Rights Share (राईट्स शेयर)

अगर आपके मन में अभी भी कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है और अपने विचार की प्रतिक्रया भी कमेंट में लिख सकते है,

पोस्ट पूरा पढने के लिए आपका धन्यवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Click To Get Daily Stock