Stock Exchange ( स्टॉक एक्सचेंज ) :

Stock Exchange ( स्टॉक एक्सचेंज ) :

स्टॉक एक्सचेंज शेयरों और प्रतिभूतियों ( Securities ) की खरीद – फरोख्त के लिए बना एक बाजार है । इसीलिए इसे स्टॉक मार्किट या स्टॉक बाजार भी कहते हैं । किसी भी अन्य बाजार की तरह स्टॉक बाजार में भी प्रतिभूति खरीदने और बेचने के इच्छुक लोग आते हैं ।

इक्विटी और प्रेफरेन्स शेयर , डिबेन्चर ( Debenture ) और सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थानों के बांड ( Bond ) शामिल होते हैं । व्यावहारिक रूप से देखा जाए तो भारत में अब दो ही राष्ट – व्यापी स्टॉक एक्सचेंज हैं – बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) व नैशनल सटॉक एक्सचेंज ( एनएसई ).

अन्य बाजारों की तरह आप सीधे स्टॉक बाजार में जाकर शेयर खरीद या बेच नहीं सकते । स्टॉक एक्सचेंज के नियमों के अनुसार आपको अपना सारा कारोबार एक्सचेंज के अधिकृत दलालों के माध्यम से ही करना पड़ता है । इन्हें स्टॉक ब्रोकर या शेयर ब्रोकर कहते हैं , और इनके पास स्टॉक एक्सचेंज की सदस्यता का लाईसेंस होता है ।

इसके लिए उन्हें दलाली ( Brokerage Commission ) मिलती है , जो के गर कारोबार के मूल्य का लगभग ढाई प्रतिशत होता है ।

हर स्टॉक एक्सचेंज द्वारा अधिकृत अधिकतम दलाली की जानकारी के लिए आप उसकी वेबसाईट देख सकते हैं । इस पुस्तक के लिखने के समय अधिकतम ब्रोकरेज किए गए कारोबार के मूल्य का 25 %

भारतीय स्टक एक्सचेंजों पर केवल सूचीकृत , यानि लिस्टेड ( Lated प्रतिभूतियों का ही कारोबार होता है । एक्सचेंज में अपनी प्रतिभूतियों का कारोबार कराने के लिए कम्पनियों उन्हें सूधीकृत कराती हैं । पलक लिमिटेड कम्पनियों के लिए ऐसा करना कानूनन अनिवार्य नहीं है । सूचीकृत शेयरों को खरीदना और बेघना तो आसान होता है । है . साथ ही उनका कारोबार स्टॉक एक्सचेंज के नियमों से बंधा होने के । कारण उनमें निवेशकों का ज्यादा भरोसा रहता है.

source:(s s grawal)

share market,sensex,nifty 50,intraday,delivery,bse,nse,sebi

Also Read : Stock Exchange ( स्टॉक एक्सचेंज )

अगर आपके मन में अभी भी कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है और अपने विचार की प्रतिक्रया भी कमेंट में लिख सकते है,
पोस्ट पूरा पढने के लिए आपका धन्यवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Click To Get Daily Stock