International Market

Types Of Share (शेयर के प्रकार) :

Types Of Shares (शेयर के प्रकार) :

शेयर दो प्रकार के होते है –

  1. प्रेफरेन्स शेयर
  2. इक्विटी शेयर

प्रेफरेन्स शेयर पर लाभांश की दर तय होती है । कम्पनी के बंद हो जाने की स्थिति में लाभांश और मूलधन की वापसी पर इन शेयरों का अधिकार इक्विटी शेयरों से पहले होता है ।

कई बार मुनाफा न होने पर कम्पनी प्रेफरेन्स शेयरहोल्डरों को लाभांश नहीं दे पाती । ऐसे हालात से बचने के लिए कम्पनियाँ क्युमुलेटिव प्रेफरेन्स शेयर जारी करती हैं । इन शेयरों पर बकाया लाभांश खत्म होने की बजाए इकट्ठा होता रहता है , और जब कम्पनी के पास पैसे होते हैं तो पिछला सारा बकायमा लाभांश चुका दिया जाता है । तब तक इक्विटी शेयर पर कोई लाभांश नहीं दिया जाता ।

अतः प्रेफरेन्स शेयरहोल्डरों को कम्पनी के घाटे या मुनाफे की परवाह किये बिना अपने तय लाभांश का हमेशा लाभ रहता है ।

जब तक कम्पनी चलती रहती है तब तक शेयरहोल्डरों को उनका शेयर कैपिटल वापिस नहीं किया जाता । यह नियम केवल एक श्रेणी के शेयरों पर लागू नहीं होता – ‘ रिडीमेबल प्रेफरेन्स शेयर ‘ । इन शेयरों का मूलधन एक तय अवधि पूरी होने पर शेयरहोल्डर को चुका दिया जाता है ।

दूसरी ओर इक्विटी शेयरों पर तय लाभांश की गारँटी नहीं होती । बल्कि इन शेयरों पर किसी भी लाभांश के मिलने की कोई गारंटी नहीं होती है । इक्विटी शेयरहोल्डरों को कम्पनी का मालिक माना जाता है । अतः सभी लेनदारों और प्रेफरेन्स शेयरहोल्डरों की बकाया राशि चुकाने पर कम्पनी के पास जो मुनाफा और एकत्रित राशि बचती है , केवल उसी पर ही इक्विटी शेयरहोल्डरों का अधिकार बनता है ।

आमतौर पर इक्विटी शेयरहोल्डर कम्पनी के कुल शेयरहोल्डरों का एक बड़ा हिस्सा होते हैं । वे कम्पनी के सभी मामलों में सम्पूर्ण मत का अधिकार रखते हैं । कम्पनी को अच्छा मुनाफा होने पर उसका सबसे बड़ा भाग इन्हीं शेयरहोल्डरों को जाता है । कम्पनी को नुकसान होने पर उसका भार भी इन्हीं पर पड़ता है – और उन्हें कम या शून्य लाभांश मिलता है ।

इक्विटी शेयरों का असली लाभ यह है कि कम्पनी की तरक्की और बढत का सबसे ज्यादा फायदा इन्हीं पर मिलता है । प्रेफरेन्स शेयरों पर जहाँ लाभांश पहले से तय होता है , वहीं इक्विटी शेयरों पर मुनाफे के साथ लाभांश भी बढ़ता जाता है । साथ ही कम्पनी की बढ़त होने पर इक्विटी शेयर की कीमत शेयर बाजार में बढ़ जाती है – प्रेफरेन्स शेयर पर ऐसा नहीं होता । इक्विटी शेयरहोल्डर को समय समय पर कम्पनी से ‘ राईट ‘ और ‘ बोनस शेयर भी मिलते हैं ।

अतः इक्विटी शेयरों पर ज्यादा खतरा , और उसी के हिसाब से ज्यादा नफा या नुक्सान बना रहता है । इसलिए शेयरों में निवेश करने का असल लाभ इन्हीं शेयरों में मिलता है ।

source:(s s grawal)

share market,sensex,nifty 50,intraday,delivery,bse,nse,sebi

Also Read : Types Of Share (शेयर के प्रकार) 

#शेयर के प्रकार,शेयर के प्रकार,शेयर प्रकार,शेयर बाजार के प्रकार,शेयर मार्केट के प्रकार,
शेयरों के प्रकार,

#types of share,types of shares,types of shareholders,types of shear wall,types of timeshare,types of preference share,types of shares pdf,types of share market trading,types of share issue,types of shares ppt,types of shareholders pdf,types of shareholder activism,different types of share options,type of shear failure,

अगर आपके मन में अभी भी कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है और अपने विचार की प्रतिक्रया भी कमेंट में लिख सकते है,

पोस्ट पूरा पढने के लिए आपका धन्यवाद.

Leave a Reply

Click To Get Daily Stock